मदरबोर्ड क्या होता है | what is motherboard in hindi

मदरबोर्ड संगणक का पार्ट है जिसकी मदद से संगनक के सभी सभी भाग एक दूसरे को जुड़े हुए रहते हैं और उनके आपस के better कनेक्शन लिए मदरबोर्ड एक अहम भूमिका निभाता है। मदरबोर्ड को संगणक का backbone भी कहा जाता है। इस लेख में हम जानेंगे कि मदर बोर्ड क्या है? What is motherboard in Hindi | मदरबोर्ड के प्रकार कौन-कौन से हैं? मदरबोर्ड द्वारा कौन-कौन से उपयुक्त कार्य किए जाते? इत्यादि |

मदरबोर्ड के गति, रचना, उपयोग एवं आकरमान के अनुसार कई सारे प्रकार होते हैं। हर एक मदरबोर्ड किसी विशिष्ट प्रोसेसर को ही उपयुक्त होता है इस कारण एक ही मदर बोर्ड हम सभी संगणक में इस्तेमाल नहीं कर सकते। हर एक मदरबोर्ड की अपनी अपनी अलग विशेषता होती है।

मदरबोर्ड यह एक PCB यानी printed circuit board है। इसे संगणक का मुख्य piller के रूप में जाना जाता है। PCB की मदद से संगणक को अधिक कार्यशील बनाया जाता है। मदरबोर्ड की मदद से संगणक के सभी भाग एक दूसरे के साथ balance से काम करते हैं।

Motherboard kya hai


What is motherboard in hindi

मदरबोर्ड एक connecting device है सबसे पहले मदरबोर्ड का निर्माण IBM कंपनी द्वारा 1991 में किया गया। मदरबोर्ड की मदद से विविध हार्डवेयर उपकरणों (perifferal) जैसे कि सीपीयू और विभिन्न इनपुट और आउटपुट उपकरण के बीच संबंध स्थापित किया जाता है। मदरबोर्ड की मदद से संगणक का कार्य अधिक कार्यक्षमता से पूर्ण होता है।

हर एक मदरबोर्ड यह अलग-अलग प्रोसेसर और मेमोरी के साथ काम करने के लिए बना होता है। मतलब हम एक ही मदर बोर्ड का उपयोग करके हर एक संगणक का उपयोग नहीं कर सकते। मदरबोर्ड के विभिन्न प्रकार होते हैं जो कि form factor पर आधारित होते हैं। form factor यानी रचना एवं आकरमान पर आधारित।

मदरबोर्ड के प्रकार | types of motherboard in Hindi

जैसे कि हम जानते हैं मदरबोर्ड यह अलग-अलग प्रकार आक्रमण एवं रचना के होते हैं मगर मदरबोर्ड का विभाजन form factor के आधार पर होता है। हर एक मदरबोर्ड form factor के आधार पर मदर बोर्ड का निर्माण करती है। यह मदरबोर्ड विशेष प्रोसेसर के साथ काम करने के लिए बने होते हैं।

फार्म ट्रैक्टर के आधार पर मदरबोर्ड के अलग-अलग प्रकार होते हैं जिनमें से कुछ मुख्य प्रकार है –

  1. AT motherboard
  2. ATX motherboard
  3. Baby AT motherboard
  4. Mini ITX motherboard
  5. BTX motherboard
  6. Pico BTX motherboard
  7. LPX motherboard
  8. XT motherboard

AT मदरबोर्ड की जानकारी –

AT मदरबोर्ड का फुल फॉर्म Advanced Technology Motherboard है। इस मदरबोर्ड की खोज आईबीएम कंपनी द्वारा 1984 में की गई। यह मदरबोर्ड सिर्फ AT case मे हि अच्छी तरह से बैठ पाता है।

इस मदरबोर्ड का आकरमान है 12× 13 inch। इस प्रकार के मदरबोर्ड में किसी भी प्रकार का sleep mode नहीं था इस कारण बिजली की खपत ज्यादा होती थी। इस मदरबोर्ड को 12 pin plug के साथ बिजली का कनेक्शन दिया जाता है।

ATX मदरबोर्ड –

ATX मदरबोर्ड का पूर्ण स्वरूप है Advanced Technology Extended मदरबोर्ड। इस मदरबोर्ड की खोज 1995 में इंटेल कंपनी द्वारा लगाई गई।

इस मदर बोर्ड में पहली बार connector slots का उपयोग किया गया था। इस मदर बोर्ड में 20-24 पिन प्लग की मदद से बिजली दी जाती है जिसके लिए ATX Switchboard का उपयोग किया जाता है।

Baby AT मदरबोर्ड (BAT मदरबोर्ड )-

1985 में AT मदरबोर्ड के सफल निर्माण के बाद उसका छोटा स्वरूप बेबी AT मदर बोर्ड जिसे BAT मदरबोर्ड भी कहा जाता है का निर्माण हुआ । BAT मदर बोर्ड का निर्माण 1987 में हुआ।

इस मदरबोर्ड का ज्यादातर इस्तेमाल Pentium संगणक में किया गया था। इस मदरबोर्ड का सामान्य आकारमान 12×8.5 इंच है। इस मदरबोर्ड की जगह बाद में एटीएक्स मदरबोर्ड ने ली।

Mini ITX मदरबोर्ड

इस मदरबोर्ड का सर्वप्रथम निर्माण 2001 के मार्च month मे VIA संगणक चीप निर्मिती कंपनी द्वारा किया गया। इस मदर बोर्ड के इस्तेमाल के लिए कम बिजली की जरूरत पड़ती है और यह साथ ही कम गर्म होता है इस कारण इसका उपयोग ज्यादातर होम थिएटर में किया जाता है।

इस मदर बोर्ड का साधारण dimension यह 17×17 cm है। इस मगर बोर्ड के लिए कम बिजली की लागत होती है इस कारण इसे कम पावर वाला प्रोसेसर की भी जरूरत पड़ती है। इस प्रकार के मदरबोर्ड में कभी-कभी अंतर्गत रूप से सीपीयू भी समाविष्ट किया जाता है ।

BTX मदरबोर्ड –

BTX मदरबोर्ड का विस्तारित स्वरूप है Balanced Technology Extended। इस मदरबोर्ड का निर्माण सर्वप्रथम Gateway inc. इस कंपनी द्वारा सन 2005 में कीया गया है। इस मदरबोर्ड की विशेषता यह है कि इस मदरबोर्ड में पहली बार USB and ATA slot का प्रयोग किया गया था।

इस मदरबोर्ड की कुछ और भी खासियत है जैसे कि slot की बढ़ी हुई संख्या, cooling system साथी यह मदरबोर्ड अलग-अलग आकरमान पर उपलब्ध होता है। यह मदरबोर्ड कुछ मात्रा में आधुनिक मदरबोर्ड के साथ मेल खाता है।

Pico BTX मदरबोर्ड –

इस मदरबोर्ड का निर्माण 2007 में VIA कंपनी के द्वारा किया गया है। यह मदरबोर्ड मुख्यता दो आकरमान में आता है जिनमें से बड़े वाले का dimension है 12×10.5 inch और छोटे वाले का dimension है 10.5×10.4inch है।

इस मदर बोर्ड में 12 pin plug की मदद से बिजली दी जाती है। इस मदरबोर्ड में USB port शामिल किया गया है। इस मदरबोर्ड के निर्माण के समय Nano ITX तंत्रज्ञान का काफी ज्यादा इस्तेमाल किया गया था।

LPX मदरबोर्ड

LPX मदरबोर्ड में LPX का विस्तारित स्वरूप है – Low profile extension। इस मदरबोर्ड का साधारण आकार मान 9 inch× 13 inch है।

इस प्रकार के मंदिर बोर्ड 1990 के समय काफी प्रचलित थे। इस प्रकार के मदरबोर्ड में काफी जटिल बिजली कनेक्शन की व्यवस्था की गई थी। इस मदरबोर्ड के बीच में Rised card की व्यवस्था की गई थी।

xT मदरबोर्ड

इस मदरबोर्ड का प्रयोग करते समय पहले किया जाता था। इस मदरबोर्ड में xT विस्तारित रूप है – eXtended। इस मदरबोर्ड में काफी पुराने प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया है।

इस मदर बोर्ड में किसी भी port की व्यवस्था नहीं थी इस कारण इसमें connector और addon card का इस्तेमाल किया गया है। इस मदरबोर्ड में Pentium I, Pentium II प्रकार के प्रोसेसर का इस्तेमाल किया जा सकता है।

मदरबोर्ड के विभिन्न महत्वपूर्ण ports | important ports of motherboard in Hindi

मदरबोर्ड का इस्तेमाल विभिन्न इनपुट आउटपुट और स्टोरेज उपकरणों को एक साथ जोड़ने के लिए होता है इस कारण मदर बोर्ड मिडिल मैन की भूमिका भी निभाता है। यह सब उपकरण मदर बोर्ड के साथ ports की मदद से जुड़े हुए होते हैं। इससे पहले जब पोर्ट्स नहीं थे तब addon और slot card की मदद से विभिन्न उपकरण एक साथ जोड़े जाते थे।

Important ports of motherboard

आजकल अत्याधुनिक मदर बोर्ड में बहुत सारे Ports का इस्तेमाल किया जाता है। इन मदरबोर्ड की कार्य क्षमता के कारण अत्याधुनिक संगणक में विभिन्न भागों में आपसी समन्वय अच्छी तरह से बैठता है। अत्याधुनिक मदर बोर्ड में इस्तेमाल किए जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण पोर्ट्स की जानकारी –

Parallel port- प्रिंटर को संगणक के साथ जोड़ने के लिए

VGA port – Monitor screen को संगत के साथ जोड़ने के लिए उपयुक्त

USB port- संगणक के साथ विभिन्न बाहरी उपकरण जैसे मोबाइल के साथ जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण

PS/2 port – कीबोर्ड एवं माउस को संगणक के साथ जोड़ने के लिए उपयुक्त

RJ47 port – पोर्ट की मदद से इंटरनेट का इस्तेमाल संगणक में किया जाता है।

HDMI port- इस port की मदद से वीडियो गाने और चित्रों का transfer जल्द हो गया है

मदरबोर्ड के विभिन्न भाग | Parts of motherboard in hindi

मदरबोर्ड की रचना में समय-समय पर बहुत बदलाव किए गए हैं। इन बदलाव में कभी-कभी मदरबोर्ड में कुछ नए parts डाले भी गए हैं और कुछ पुराने और जो parts काम के नहीं उनको निकाला भी गया है।

दुनिया भर के कई तंत्रज्ञ मदरबोर्ड में अनोखी खोज कर रहे हैं । कुछ विशेष कार्य के लिए नए-नए मदरबोर्ड का निर्माण किया जा रहा है । इन मदरबोर्ड में उपयोगिता के अनुसार नए-नए भाग डाले जा रहे हैं।

पुराने मॉडल के मदरबोर्ड के भाग

पुराने समय में भी मदरबोर्ड में काफी अच्छे parts का इस्तेमाल किया जाता था और वह पार्ट्स उस समय का बेहतर तंत्रज्ञान था। इसकी हमें जानकारी होनी चाहिए। तो चलिए जानते हैं पुराने मॉडल के मदरबोर्ड के विभिन्न भाग –

  • BUS
  • Cache memory
  • BIOS
  • Diode
  • Dip switches
  • Chipset
  • Electrolytic
  • Keyboard controller proper connection
  • Oosolete memory shot – SIMM
  • Absolete expansion slot – CMR, AMR
  • Resistor

आधुनिक मदरबोर्ड के विभिन्न भाग

आधुनिक मदरबोर्ड में नए-नए भागों का इस्तेमाल किया गया है जो कि पहले कल्पना मात्र थे |उन भागों के नाम कुछ इस प्रकार है –

  • Expansion slot
  • Memory slot
  • Heat sink
  • 3 pin case fan connector
  • Inductor
  • Capacitor
  • Back panel connector
  • CPU socket
  • Serial ATA
  • North bridge
  • South Bridge
  • Screw hole
  • Super I/10

मदरबोर्ड का कार्य | function of motherboard in hindi

मदरबोर्ड की मदद से संगणक के सभी भाग एक दूसरे से जुड़े हुए रहते हैं। संगणक के सभी भागों के आपसी तालमेल के लिए मदरबोर्ड का होना अत्यंत आवश्यक है।

वह मदरबोर्ड ही है जिसकी वजह से संगणक अत्यंत कार्यक्षमता से सभी कार्य करता है। मदरबोर्ड के महत्व को समझने के लिए उसकी कार्यप्रणाली को समझना बहुत ही आवश्यक है।

Power distribution –

मदर बोर्ड की वजह से संगणक के सभी भागों को ठीक से बिजली मुहैया कराई जाती है। इस वजह से संगणक के सभी भाग काफी अच्छी तरह से काम करते हैं। और इसी वजह से संगणक काफी कार्यक्षम बन जाता है।

Components hub-

अब तक तो हमने जाना ही है की संगणक यह कोई single उपकरण नहीं है बल्कि यह बहुत सारे उपकरणों का एकत्रित रूप है। संगणक को ठीक से काम करने के लिए इसके सभी भागो का अच्छी तरह से काम करना अनिवार्य है।

मदरबोर्ड की वजह से संगणक के सभी भाग एक दूसरे से जुड़े हुए रहते हैं और इस तरह वे एक-दूसरे से काफी अच्छी तरह से interact कर पाते हैं। इस वजह से संगणक की कार्य क्षमता बढ़ जाती है।

बाह्य उपकरणों के लिए slots

कई बार हमें संगणक में बाह्य उपकरणों की जरूरत पड़ती है जिससे कि हमारा काम आसान हो जाए। जैसे कि प्रिंटर की वजह से हम प्रिंट निकाल सकते हैं और उसको जोड़ने के लिए हमें slots की जरूरत पड़ेगी इसलिए मदरबोर्ड में extra slots मुहैया कराए जाते हैं।

BIOS

BIOS की मदद से कहीं महत्वपूर्ण कार्य किए जाते हैं जैसे कि संगणक को boot up करना। ROM का अच्छी तरह से उपयोग करना इत्यादि।

Memory slot-

संगणक मे विभिन्न instruction को स्टोर करने के लिए मेमरी की बहुत जरुरत पडते है और संगणक के साथ मेमरी को जोडणे के लिए मेमरी slot की जरूरत पडती है जो की मदरबोर्ड मे होता है।

संगणक में कुछ बाह्य उपकरणों की मदत से भी मेमरी को उपयोग मे लाया जाता है। इन उपकरनो मे से कुछ है मेमरी कार्ड , पेन ड्राईव्ह इत्यादी। इन सबका इस्तेमाल संगणक के साथ करने के लिए भी मेमरी slot की आवश्यकता होती है जो की संगणक के मदरबोर्ड मे स्थित होते है।

Data flow –

संगणक के मदद से विभिन्न Perifferal एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं । इन उपकरणों में समावेश है कीबोर्ड माउस सीपीयू इत्यादि का। इन सभी उपकरणों को एक साथ कार्य क्षमता के साथ काम करने के लिए इनके बीच अच्छा संबंध प्रस्थापित होना बहुत जरूरी है और इसके लिए data flow का बहुत ज्यादा महत्व है।

सबसे अच्छा मदरबोर्ड कैसे पहचाने | how to choose the best motherboard in hindi

सबसे पहले तो संगणक कोई एक उपकरण नहीं है। यह बहुत सारे उपकरणों का आपसी संगम से बनाया हुआ एक उपकरण है और इन सभी उपकरणों को एक साथ बांधे रखने का काम मदरबोर्ड की तरफ से किया जाता है। मदरबोर्ड हि संगणक की गति एवं कार्य क्षमता को निर्धारित करने वाला महत्वपूर्ण अंग है।

अलग-अलग मदरबोर्ड के लिए अलग-अलग प्रोसेसर का निर्माण किया गया है इसलिए मदरबोर्ड खरीदते समय बहुत सावधान तरीके से मदर बोर्ड का चयन करना चाहिए क्योंकि एक ही मदरबोर्ड सभी प्रकार के संगणक को support नहीं करता। मदरबोर्ड के जितने भी प्रकार होते हैं वह उसके रचना एवं आकर मान जिसे हम फॉर्म फैक्टर भी कहते हैं कि वजह से होते हैं।

कौन सा भी मदरबोर्ड खरीदने के लिए निम्नलिखित बातो का ध्यान रखना बहुत उपयुक्त है –

Processor –

Processor जिसे की हम संगनक का cpu भी कहते है अलग अलग motherboard को support करता है। मतलब मदरबोर्ड के socket मे processor का fit होना बहुत जरूरी है। अगर गलत मदरबोर्ड लिया और वह अगर processor को सपोर्ट नहीं करता हो तो दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है।

Form factor –

हर एक मदरबोर्ड की अलग अलग रचना एवं आकर मान जिसे फॉर्म factor कहा जाता है। form factor की मदद से मदरबोर्ड के अलग अलग प्रकार होते है। हर एक मदरबोर्ड की form factor के अनुसार विशेषता अलग अलग होती है इस कारण मदरबोर्ड खरीदते समय form factor की तरफ विशेष ध्यान दे।

मेमोरी –

संगनक मे हर कार्य के लिए निर्देश store किया जाता है। साथ संगनक मे किये जाने वाले हर एक कार्य के पीछे मेमोरी होती हि है। कुछ कुछ मदरबोर्ड कम क्षमता के मेमोरी को हि support करते है जिससे पहले तो आपको संगनक मे कोई दिक्क़त नहीं होंगी मग़र बादमे ज़ब आप heavy task संगनक पर करना शुरू करेंगे तब आपको दिक्कत का सामना होगा। इस कारण मदरबोर्ड का चयन करते समय वो कितने RAM को support करता है यह देखना महत्वपूर्ण होता है।

BUS-

BUS मतलब ऐसा रास्ता जिसकी मदद से संगनक के विभिन्न भाग मदरबोर्ड से जुड़े हुए रहते है। BUS की गणना Megahertz (MHz) मे की जाती है। जितना अच्छा बस होगा उतना हि अच्छा data transfer का स्पीड होगा और उतना ही अच्छा वह संगणक होगा।

Chipset –

संगणक में चिपसेट का बहुत महत्व है यह संगणक में। middle मैन की भूमिका निभाता है। चिपसेट की मदद से ही संगणक में डाटा ट्रांसफर की प्रक्रिया पूरी होती है। चिपसेट की मदद से संगणक के विभिन्न भागों में डाटा ट्रांसफर होता है। chipset के मुख्यता दो भाग हैं North bridge और South bridge। चिपसेट के मदद से संगणक के विभिन्न भागों का CPU के साथ कनेक्शन हो पाता है ।

Expansion slot connector –

संगणक में नियमित रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले भागों के अलावा भी हमें कभी-कभी बाहय भागों का का प्रयोग करना पड़ता है जिसके लिए हमें Expansion slot connector की बहुत जरूरत पड़ती है अगर यह इनकी संख्या कम हो तो हमें आगे चलकर दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है।

सबसे अच्छी संगणक मदरबोर्ड निर्माता कंपनी | best motherboard manufacturer company in hindi

आज का जमाना ही अत्याधुनिक तंत्रज्ञान का जमाना है। यहां हर क्षेत्र में बहुत competition बढ़ चुकी है इसलिए मदरबोर्ड भी इन सब चीजों से बाहर नहीं है। मदर बोर्ड निर्माता कंपनियों के बीच में काफी बड़ी मात्रा में competition छिड़ गई है।

हर एक कंपनी अपना सर्वोत्तम मदरबोर्ड कम कीमत में बाजार में उतरना चाहती है। मगर इन सब कंपनियों में भी कुछ कंपनियां ऐसी है जिन्होंने अपना सर्वोत्तम योगदान मदर बोर्ड के क्षेत्र में दिया है और वह कंपनियां है –

  • Intel
  • Gigabyte
  • AMD
  • Asus
  • ABIT
  • Acer
  • Biosta
  • ASI

सबसे ज्यादा पूछे जाने वाले प्रश्न | FAQ – Frequently Asked Questions

मदरबोर्ड क्या है?

उत्तरमदरबोर्ड को संगनक का backbone भी कहा जाता है। मदरबोर्ड की मदद से संगणक के विभिन्न भाग एक दूसरे से जुड़े हुए रहते हैं। मदरबोर्ड संगणक में विभिन्न भागों के better interaction की भूमिका निभाता है । अगर संगणक में मदरबोर्ड नहीं हुआ तो उस संगनक की कार्यप्रणाली में बहुत दिक्कत होगी क्योंकि संगणक का हर एक भाग बाकी दूसरे भाग के साथ interact नहीं कर पायेगा। और इस वजह से संगनक अकार्यशील बन जाएगा।

मदरबोर्ड का कार्य क्या है?

उत्तर – मदर बोर्ड का मुख्य कार्य है संगणक के सभी भागों को एक दूसरे के साथ जोड़ना और उनमे अच्छा व्यवस्थापन कर रखे संगणक की कार्यक्षमता को बढ़ाना। मदरबोर्ड संगणक में डाटा ट्रांसफर की प्रक्रिया में भी बहुत अहम योगदान प्रदान करता है इसलिए मदरबोर्ड की वजह से संगणक के सभी कार्य बहुत अच्छी तरह से होते हैं।

सीपीयू और मदरबोर्ड एक ही है क्या?

उत्तर – सीपीयू की मदद से संगणक में data का व्यवस्थापन किया जाता है वही मदरबोर्ड की वजह से संगणक के अलग-अलग पार्ट्स जोड़े जाते हैं।

मदरबोर्ड की खोज किसने की?

उत्तर – मदरबोर्ड की खोज आईबीएम कंपनी द्वारा सन 1981 में की गई।

मदरबोर्ड के कौन-कौन से प्रकार है?

उत्तर – मदर बोर्ड के फॉर्म फैक्टर के अनुसार अलग-अलग प्रकार होते हैं जो है -AT मदरबोर्ड , ATX मदरबोर्ड , baby AT मदरबोर्ड , Mini ITX मदरबोर्ड , BTX मदरबोर्ड, Pico BTX मदरबोर्ड., LPX मदरबोर्ड, XT मदरबोर्ड इत्यादि।

सारांश / conclusion –

संगणक कोई एक उपकरण नहीं है बल्कि यह बहुत सारे उपकरणों को एक साथ बनाकर किया गया एक संच है और इस संच के सभी भागों को एक साथ जोड़े रखने की जवाबदारी मदरबोर्ड के पास होती है मदरबोर्ड की वजह से संगनक के सभी भागों में डाटा ट्रांसफर की प्रक्रिया को बढ़ावा मिलता है।

इस लेख में हमने जाना कि मदर बोर्ड क्या है?| what is motherboard in hindi? मदरबोर्ड के प्रकार कौन-कौन से हैं मदरबोर्ड के विभिन्न घटकों के बारे में भी हमने जाना।इसके साथ ही हमने जाना कि इन मदरबोर्ड मे से अच्छे motherboard का चयन कैसे करे। हमने इस विषय में सबसे ज्यादा कुछ पूछे जाने वाले प्रश्नों का भी अभ्यास किया।

यह लेख आपको कैसा लगा यह कमेंट करके हमें जरूर बताएं ऐसा थी इसलिए इसमें अगर किसी भाग में आपको कोई दिक्कत हो या कोई बात छोड़ गया हो या किसी भी प्रकार

सहयोग की अपेक्षा के साथ > धन्यवाद…

Leave a Comment